📖 साहित्य

बदलते क्लासरूम…!

नारायण बारहेठ- वरिष्ठ पत्रकार जयपुर। यह भारत का फलसफा है। शिक्षा केंद्र महज एक संस्थान नहीं होता। वो एक मंदिर है,इबादतगाह है। और क्लास रूम...

इल्‍हाम, इनायत, इत्‍तेफाक यानी इरफान- दुष्‍यंत

मुंबई-इरफान इत्तेफाक है। हसीन इत्तेफाक। एक कवि के बिम्ब की तरह, एक शायर के तखय्युल की तरह। जिसके होने की कामना, जिसके जैसे होने...

एक भारतीय आत्मा माखनलाल चतुर्वेदी

चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँचाह नहीं प्रेमी माला में बिध प्यारी को ललचाऊँचाह नहीं सम्राटों के शव पर हे हरि...
spot_img

Latest articles

Newsletter

Subscribe to stay updated.