अब फेक मैसेज भेजे तो जाओगे जेल

32

 जयपुर:  सोशल मीडिया पर फैल रहे फेक मैसेज को लेकर पुलिस मुख्यालय ने भी चिंता जताते हुए एक नई गाइडलाइन जारी की है. गाइडलाइन के अनुसार सोशल मीडिया पर फेक मैसेज वायरल करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.
शहर में इन दिनों प्रदेश में बच्चा चुराने वाली गैंग को लेकर अनेक मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल किए जा रहे हैं. जिसके चलते अनेक स्थानों पर गफलत की स्थिति उत्पन्न हो रही है. यहां तक कि अनेक स्थानों पर बच्चा चुराने वाली गैंग में शामिल होने के आरोप लगाते हुए कुछ लोगों के साथ मारपीट करने के मामले भी सामने आए हैं. लोग अपनी कॉलोनी में किसी संदिग्ध को देखते ही उसे बच्चा चोर समझ रहे है. इसका कारण है कि सोशल मीडिया पर इस तरह के मैसेज जमकर फोरवर्ड किये जा रहे है. एक ही तरह की तस्वीरों को अलग अलग शहरों की दिखाकर लोग मैसेज भेज रहे है.

प्रदेश में पिछले कुछ दिनों में ये झूठे मामले आये सामने

14 सितंबर
सिंधी कैंप इलाके में लोगों ने ने मनीलम होटल के पास बच्चा चोरी के आरोप में महिला को पकड़ा, बाद में मामला निकला फेक
15 सितंबर
जालूपुरा में महिला को बच्चा चोर समझकर लोगों ने पकड़ा, पुलिस की जांच में झूठी निकली सूचना
2 सितंबर
अलवर के रैणी में बच्चा चोर की आशंका पर लोगों ने यूपी के एक व्यक्ति को पकड़कर पीटा, जांच में बच्चा चोर होना नही हुआ साबित
 29 अगस्त
अजमेर में फॉयसागर रोड पर बच्चा चोरी होने की कोई घटना ही नही हुई लेकिन सोशल मीडिया के माध्यम से 29 अगस्त को पूरे प्रदेश में अजमेर में बच्चा चोरी होने की खबर वायरल कर दी गयी.

भ्रमित मैसेज भेजने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है फेक मैसेज को लेकर पुलिस मुख्यालय सख्त हुआ है और उसने सभी जिलों में फेक मैसेज को लेकर सतर्कता बरतने के आदेश दिए हैं. सोशल मीडिया पर फेक मैसेज वायरल करने वाले व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए गए हैं. एडीजी क्राइम बीएल सोनी का कहना है कि इन फेक वायरल मैसेज की वजह से लोग भ्रमित हो रहे है जिसके चलते कई जगहों पर शांति भंग होने के मामले सामने आ रहे है। पुलिस मुख्यालय की ओर से अब सोशल मीडिया पर नजर रखी जायेगी और जो इस तरह के भ्रमित करने वाले फेक मैसेज भेजेगा उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जायेगी. कुछ जिलों के एसपी की ओर से इस तरह के भ्रामक मैसेज से बचने के लिए पोस्टर भी जारी किये गये है।

सत्यापन के लिए पुलिस को दे सूचना

एडीजी क्राइम बीएल सोनी ने भी आमजन से अपील की है कि वह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे फेक मैसेज पर ध्यान ना दें और यदि ऐसा कोई भी मैसेज उनके पास आता है तो इसकी सूचना तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम में 100 नंबर पर फोन करके दें. पुलिस की ओर से इसका जल्द सत्यापन करवाया जायेगा जिससे आमजन को परेशानी ना हो।