क्या होगा तीसरे मोर्चे का खेल ?

106

राजस्थान विधानसभा चुनाव-2018 शुक्रवार यानि 7 दिसम्बर को सम्पन्न हो गया है। सरकार बनाने को लेकर अलग-अलग कयास लगाए जा रहे है। इस बार कांग्रेस-भाजपा के समीकरण में तीसरा मोर्चा भी अहम भूमिका में रही। राज्य में तीसरे मोर्चे के रूप में आरएलपी, भारत वाहनी पार्टी, बसपा भी खासे दिए। आरएलपी के संयोजक हनुमान बेनीवाल बोले- हमारे समर्थन से सरकार बनाने की नौबत आई तो हम दोबारा चुनाव कराएंगे। वही बसपा नेता धर्मवीर का कहना, पार्टी के पौने दो सौ में से कई प्रत्याशी जीतकर विधानसभा पहुंचेंगे।

20 से ज्यादा प्रत्याशी अच्छी फाइट में हैं: आरएलपी

आरएलपी संयोजक हनुमान बेनीवाल ने कहा है- आरएलपी के 20 से ज्यादा प्रत्याशी अच्छी फाइट में हैं। शेष प्रत्याशी भी चौकाने वाले परिणाम दे सकते है। हमारे समर्थन से सरकार बनाने की नौबत आई तो हम दोबारा चुनाव कराएंगे। ऐसे हालात नहीं बने तो हम विपक्ष में मजबूत भूमिका में दिखेंगे। जब तक तीसरे मोर्चे की सरकार नहीं बनती लड़ाई जारी रहेगी।

भारत वाहिनी के मैदान में आने से बीजेपी- कांग्रेस के चुनावी समीकरण प्रभावित हुए है: भारत वाहिनी

भारत वाहिनी प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है-  भारत वाहिनी के मैदान में आने से बीजेपी – कांग्रेस के चुनावी समीकरण प्रभावित हुए है। इन दोनों पार्टियों के वोट बैंक को बड़ा नुकसान हुआ है। अब परिणाम वाले दिन पता लग जाएगा इन प्रमुख पार्टियों को कितना नुकसान हुआ और कौन विधानसभा के अंदर और कौन बाहर मिलेगा।

चौंकाने वाले परिणाम बसपा के पक्ष में दिखेंगे: बसपा

बसपा के वरिष्ठ नेता धर्मवीर अशोक ने कहा है- बसपा ने पौने दो सौ प्रत्याशियों को मैदान में उतारा था। इनमें से कई प्रत्याशी जीतकर विधानसभा पहुंच रहे हैं। वर्ष 2008 में छह सदस्यों ने पार्टी छोड़ी थी, तब जाकर कांग्रेस की सरकार बनी थी। उस समय पार्टी का वोट प्रतिशत सात प्रतिशत तक पहुंच गया था जो कि तीसरे नंबर की पार्टी रही थी। निश्चित तौर पर इस बार भी चौंकाने वाले परिणाम बसपा के पक्ष में दिखेंगे।

बीजेपी- कांग्रेस का समीकरण खराब हो रहा है: लोकतांत्रिक मोर्चा

सीपीआई नेता नरेंद्र आचार्य ने कहा है- लोकतांत्रिक मोर्चे के बैनर तले सीपीआई, सीपीएम, सपा सहित कई पार्टियां गठबंधन के साथ विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी उतारे है। इन पार्टियों के कुछ प्रत्याशी कई जगह अच्छी फाइट में हैं। । इसके अलावा बीजेपी- कांग्रेस का समीकरण खराब हो रहा है। मतगणना के दिन कुछ सीटों पर चौंकाने वाले परिणाम दिखना तय है।