राजस्थान चुनाव प्रचार के दौरान चर्चा में रहे इन नेताओं के बयान

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 के लिए जो चुनाव प्रचार टिकट वितरण और नामांकन प्रक्रिया एक साथ शुरू हुआ था वह आख़िरकार कल शाम 5 बजे थम गया. प्रचार के दौरान लगभग सभी पार्टियों के स्टार प्रचारक और दिग्गज नेता प्रदेश में थे और उन्होंने अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के लिए जनसभाएं और रैलियां की और रोड शो भी निकाले. इस दौरान पीएम मोदी, यूपी सीएम योगी, अशोक गहलोत और सचिन पायलट जैसे नेताओं के अलावा कुछ अन्य नेताओं ने भी अपने भाषण में कुछ ऐसे बयान भी दिए जो कि चर्चा का विषय बने.

केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने पावटा में भाजपा प्रत्याशी के लिए की गई रैली में कहा था कि कांग्रेस बिना दूल्हे की बारात है. जिस दिन कांग्रेस अपने मुख्यमंत्री पद के दावेदार की घोषणा कर देगी, उस दिन बिखर जायेगी. हमने लोकसभा चुनाव में भी अपने दावेदार पहले ही घोषित कर दिया था और विधानसभा भी भी ऐसे ही लड़ रहे है.

राज्य में कांग्रेस के स्टार प्रचारक और पंजाब में कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने झालावाड और सवाई माधोपुर में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं जब जवान था तो क्रिकेट खेलते हुए ऐसे छक्के मारता था कि बॉल बाउंड्री के बाहर हो जाए, आप भी ऐसा छक्का मारो कि भाजपा सरकार सत्ता से बाहर हो जाए.

वहीं स्मृति ईरानी ने उदयपुर में कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस का हाथ भारत माँ के लिए बल्कि सोनिया गांधी की जय के लिए उठता है. साथ ही उन्होंने कांग्रेस को 4 साल का हिसाब पूछने पर पहले अपना हिसाब देने की चुनौती भी दी.

मध्यप्रदेश में चुनाव संपन्न होने के बाद राजस्थान में प्रचार के लिए आये ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उदयपुर में केंद्र सरकार के नोटबंदी के निर्णय पर तंज कसते हुए कहा कि ‘कोल्ड ड्रिंक का विज्ञापन चल रहा था, चलो आज कुछ तूफानी करते है और पीएम मोदी ने नोटबंदी कर दी. इसके बाद महंगाई बढ़ गई और पेट्रोल तेंदुलकर की सेंचुरी पर पहुंच गया.

वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोटा और बारां में प्रचार के दौरान कहा कि आज राहुल गांधी कि स्थिति ऐसी है कि अगर उनसे कोई कहे कि चाँद तोड़कर लाना है तो वे वादा कर देंगे कि चुनाव के 10 दिन के अन्दर तोड़कर ला दूंगा.