चुनाव 2018ः ये है वो सीटें, जिनकी जीत पर टिकी सभी की नजर

128

राजस्थान विधानसभा चुनाव का मतदान कल हो चुका है और रिजल्ट की ओर सभी लेाग नजरें गढ़ाए बैठे है। आपको बता दें कि रामगढ़ सीट पर बसपा प्रत्याशी की मौत की वजह से चुनाव स्थगित हो गए है। विधानसभा चुनाव में वैसे तो सभी अपनी पार्टी की जीत के लिए आसार लगाए नजर आ रहे है। मुख्यतः बात की जाए तो इस चुनाव में सात विधानसभा सीटों पर विशेष नजर है। क्योंकि इन सात विधानसभा की सीटों पर दिग्गज नेता बैठे है जो कि अपनी जीत की सीट पर आंखो को गढ़ाए बैठे है।

सचिन पायलट को है जीत की पूरी उम्मीद, कहा अब पहनूंगा साफा

ये हैं प्रदेश की वो चर्चित सीटें

1. झालरापाटनः इस सीट से सीएम वसुंधरा राजे चौथी बार चुनाव लड़ रही हैं। कांग्रेस ने दिग्गज भाजपा नेता जसवंत सिह के पुत्र मानवेंद्र सिह को टिकट दिया है। इस सीट पर सबकी निगाह है। वसुंधरा राजे झालावाड़ से पांच बार सांसद रही।

2.टोंक: राज्य की सबसे चर्चित सीटों में से एक टोंक विधानसभा सीट है। यहां से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट चुनाव लड़ रहे हैं। सचिन इससे पहले दो बार सांसद भी रह चुके है। इस बार उन्होंने लोगों से मिलकर अपनी एक खास पहचान बनाई।

3. सांगानेरः यहां से भाजपा से अलग होकर भारत वाहिनी नाम से नई पार्टी बनाने वाले वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी है।

क्या 20 साल से हो रही सत्ता की परम्परा में होगी अदला-बदली?

4. उदयपुरः उदयपुर से पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. गिरिजा व्यास कांग्रेस के टिकट से चुनाव में उतरे है।उनका मुकाबला प्रदेश के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया से है।

5. नाथद्वाराः यहां से कांग्रेस के दिग्गज नेता डॉ. सीपी जोशी चुनाव लड़ रहे हैं। चार बार विधायक रहे डॉ. सीपी जोशी 2008 में एक वोट से हारे थे।

जयपुर में कई जगहों पर ख़राब हुई ईवीएम, प्रत्याशियों ने जताई नाराजगी

6. खींवसरः इस सीट से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष हनुमान बेनीवाल मैदान हैं। बेनीवाल के खिलाफ उन्हीं की भतीजी चुनाव लड़ रही हैं। बेनीवाल की पार्टी इस बार लोगों को अपनी रैली और सभाओं से अपना बनाने में कामयाब रहीं।

7. सरदारपुराः इस सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पांचवीं बार चुनाव लड़ रहे हैं।

इस बार इन सीटों पर कौन जीतता है और कौन अपनी खास पहचान बना पाता है ये देखना बाकी है। वैसे सचिन पायलट का कहना है कि इस बार कांग्रेस पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बनाएगीं और इसके बाद ही वो  साफा पहनेगे। इसका पता तो 11 दिसंबर को चल ही जाएगा कि आखिर कौन होता है राजस्थान चुनाव 2018 का विजेता और किसके उपर होता है जीत का ताज।