‘ऑब्जर्वर वहां पहुंच रहे हैं जल्द ही…’, सिंघवी की हार पर पायलट का बड़ा बयान; लोकसभा चुनाव को लेकर क्या कहा? जानिए

चौक टीम, जयपुर। हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की सुक्खू पर तलवार लटकी हुई है। इसकी शुरूआत कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी के हिमाचल से राज्यसभा चुनाव में हार के दौरान हुई। विधानसभा में कांग्रेस के 6 विधायकों द्वारा क्रॉस वोटिंग करने के बाद सरकार पर आंच आती नजर आने लगी। हालांकि फिलहाल मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने इस्तीफा नहीं दिया है। इसे लेकर राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को बड़ा बयान दिया है। उन्होने कहा कि पार्टी ने विधायकों से बातचीत के लिए ऑब्जर्वर्स भेजे हैं। जल्द ही मामला जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।

दरअसल, पूर्व डिप्टी सीएम एंव कांग्रेस नेता सचिन पायलट आज सीकर दौरे पर रहे। यहां पायलट ने दांतारामगढ़ विधायक वीरेंद्र सिंह की माताजी एवं पूर्व पीसीसी अध्यक्ष व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चौधरी नारायण सिंह की पत्नी मोहनी देवी के स्वर्गवास होने पर उनके नवलगढ़ रोड स्थित निजी आवास पर चल रही शोकसभा में शामिल हुए और श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने यह बयान दिया।

‘कुछ भी कहना अभी जल्दबाजी’- पायलट

हिमाचल में सियासी उबाल पर कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा कि ‘इस बारे में कुछ कहना अभी जल्दबाजी होगी। लेकिन यह बात सही है कि वहां अभिषेक सिंघवी हमारे उम्मीदवार थे और वह चुनाव नहीं जीत सके। कुछ विधायकों ने वोट नहीं दिया। पार्टी ने पर्यवेक्षक नियुक्त किए हैं जो जल्द ही शिमला पहुंच रहे हैं, वे सभी से बात करेंगे। मामला जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।’

लोकसभा चुनाव को लेकर दिया ये बयान

इसके अलावा सचिन पायलट ने लोकसभा चुनाव की तैयारी पर बोलते कहा कि हमने जो विधानसभा चुनाव लड़ा था उसमें हम सरकार तो नहीं बना पाए। लेकिन हमारा जो वोट का प्रतिशत है वह भाजपा से बहुत कम अंतर का था। लेकिन इस सरकार का जो कामकाज हम देख रहे हैं। आपस में प्रशासन, पॉलिटिक्स में असहमतियां सामने आ रही है। लोग समझ रहे हैं कि यह सरकार उम्मीद पर खरा नहीं उतर पाएगी।

देश का जो माहौल हम देख रहे हैं पिछले 10 साल में जनता से भाजपा ने वादाखिलाफी की है। फिर चाहे वह किसान हो या देश का युवा। हर मोर्चे पर सरकार विफल रही है। केवल प्रचार और प्रोपेगेंडा हो रहा है। लेकिन धरातल पर बेरोजगारी और महंगाई को दूर करने के मामले में केंद्र सरकार खुद को कामयाब साबित नहीं कर पाई है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि इन्हीं मुद्दों पर चुनाव लड़ा जाए। बीजेपी चाहती है कि भावनात्मक और जज्बाती मुद्दों पर चुनाव लड़ा जाए। लेकिन हम चाहते हैं कि फसल खरीद, 2 करोड़ रोजगार देने जैसे मुद्दों पर चुनाव लड़ा जाए।

इंडिया एलाइंस काफी मजबूत है- पायलट

सचिन पायलट ने कहा कि हमारी जो इंडिया एलाइंस पार्टी बनी है वह काफी मजबूत है। तीन से चार राज्यों में हमने हमारी सीट शेयरिंग की अनाउंसमेंट कर ली है। बीजेपी वाले बोलते हैं कि 400 पार, 500 पार। लेकिन वह भी चिंतित है क्योंकि धरातल पर स्थितियां काफी अलग है। इसलिए ही वह एक-एक करके कांग्रेस या बाकी पार्टियों के लोगों को अपने साथ जोड़ना चाह रहे हैं। अगर उन्हें इतना ही विश्वास होता चुनाव जीतने का तो क्यों दूसरी पार्टियों के लोगों पर डोरे डालते।

सचिन पायलट ने कहा कि यह हर चुनाव के पहले होता है कि कई लोग पार्टी में आते हैं और कई लोग वापस जाते हैं, लेकिन यह चुनाव इंडिया एलाइंस वर्सेज एनडीए का है। हमारा एलाइंस मजबूत है, हम चुनाव जीतने के लिए लड़ रहे हैं। उन्होंने हिमाचल में कई विधायकों के वोट नहीं पड़ने की बात भी कही जिसके चलते कांग्रेस चुनाव नहीं जीत सकी।

CM सुक्खू ने नहीं दिया इस्तीफा

मालूम हो कि सुक्खू सरकार में कैबिनेट मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने आज मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस शाम तक नए नेता का चयन कर सकती है। पार्टी ने विधायकों से बातचीत के लिए ऑब्जर्वर्स भेजे हैं। बता दें कि सुखविंदर ने नाराज मंत्री विक्रमादित्य के पद से इस्तीफे के करीब एक घंटे बाद यह कदम उठाया। हालांकि अब तक सीएम सुक्खू ने राज्यपाल को इस्तीफा नहीं सौंपा है।

Related articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

follow on google news

spot_img

Share article

spot_img

Latest articles

Newsletter

Subscribe to stay updated.