हमेशा की तरह इस बार भी भाजपा गिना रहीं है अपने किए वादों को!

0
18

हमेशा भाजपा पार्टी लोगों को लुभाने और उन्हें अपनी ओर करने में कोई कमी नहीं छोड़ती है। इस बार भी इन्होनें कई ऐसे वादें किए जो कि लोगों के दिलों को छू रहें है। आपको बता दें कि इस बार 200 विधानसभा सीटों के लिए राजस्थान में 7 दिसंबर को वोट डाले जाएगें और 11 दिसंबर को वोटों की गिनती होगी।

पिछले बार के ये है कुछ वादें-

भाजपा ने अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। पार्टी के मुताबिक साल 2018 के घोषणा पत्र में कहा गया है कि उन्होनें पिछले वादों में से अधिकतर कई वादों को पूरा किया है। जिनमें से कहा जा रहा है कि उन्होनें 665 में से 630 वादों को पूरा किया। साल 2013 की घोषणा पर नजर डाले तो पार्टी ने 50 लाख नौकरियों का वादा, बेरोजगारों को 5 हजार रुपये का भत्ता देने का वादा भी पूरी तरह से निभाया है।

इसी के साथ उन्होंने ये भी कहा कि इस बार भी राज्य में सरकार उन्हीं की होती है तो वो और भी कई कमियों को पूरा करेगें। इसमें उन्होनें पानी की कमी, सिंचाई के लिए विशेष योजनाएं आदि चीजों को भी शामिल किया है। वसुंधरा ने बेरोजगारों को 5 हजार रुपए भत्ता देने का भी वादा किया है।

सामान्य जरूरतमंद चीजों के साथ साथ जिस तरह इन्होनें पिछली बार कई लोगो को बड़ी तादाद में सरकारी नौकरियां दी है इस बार भी इन सभी चीजों को इनके मुख्य बिंदुओ में शामिल किया जाएगा।

क्या असल में बीजेपी किसानों और बेरोजगारों की है हमदर्द ?

आपको बता दें कि इस बार बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में इन खास बातों को शामिल किया हैः-

-बेरोजगारों को पांच हजार रूपये का भत्ता दिया जाएगा।
-हर साल 30 हजार सरकारी नौकरियां देने का वादा
-गांवों के लिए 250 करोड़ का स्टार्ट-अप फंड. जमा किया जाएगा।
-किसानों की आय दोगुनी करने का वादा।
-हर एक जिले में योग भवन बनवाने का वादा।

पिछली बार की तरह ही इन मुद्धो को देगे प्राथमिकता-

पिछले घोषणा पत्र (सुराज संकल्प पत्र) में भाजपा ने नई फसल बीमा नीति बनाने, खेती को बढ़ावा देने, कृषि क्षेत्र में रोजगार बढ़ाने के कई वादों को पूरा किया, ऐसा ही कुछ इस बार भी इन्होंने करने का वादा किया है। इस बार के घोषणा पत्र में भी फसल और किसानों के साथ साथ बेरोजगार लोगो के लिए भी कई वादों को किया है।

भाजपा सरकार का कहना है कि हम पिछली बार की तरह ही इस बार भी अपने कई वादों को पूरा करेगें।