Sri Krishna का रहस्यमयी मंदिर, यहां दुबली हो जाती है भगवान की मूर्ति, केवल 2 मिनट के लिए बंद होते हैं दरवाजे

देशभर में Sri Krishnaजन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। Sri Krishna के इस खास मौके पर हम आपको नंदलाला के एक चमत्कारी मंदिर के बारे में बताते हैं हिंदू धर्म में जन्माष्टमी का त्यौहार बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है और यह प्रमुख पर्वों में से एक है। प्राचीन काल से भगवान श्री कृष्ण के जन्म को समर्पित ये त्योहार भव्य रूप से आयोजित होता आया है। इस साल 6 और 7 सितंबर 2 दिनों तक देश भर में कृष्ण जन्मोत्सव का उल्लास रहने वाला है। त्योहार के मौके पर अक्सर ही भक्तों की भीड़ मंदिर में दर्शन करने के लिए उमड़ती हैं। मथुरा-वृंदावन समेत देश में कुछ ऐसी जगह है, जहां पर विशेष तौर पर भक्तों की भीड़ देखी जाती है।

Sri Krishna की मूर्ति धीरे-धीरे दुबली हो रही है

आज हम आपको एक अनोखे कृष्ण मंदिर के बारे में बताते हैं जो दक्षिण भारत में मौजूद है। इस मंदिर की रहस्यमय कहानी किसी को भी हैरान कर सकती है। आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन यह कहा जाता है कि इस मंदिर में स्थापित भगवान Sri Krishna की मूर्ति धीरे-धीरे दुबली हो रही है। चलिए आज हम आपको इस मंदिर के बारे में सारी जानकारी देते हैं।

Also see:इस गांव में Marriage के बाद पहली पूजा श्मशान घाट में करता है जोड़ा

भगवान Sri Krishna का यह खूबसूरत सा मंदिर केरल के कोट्टायम में स्थित है।

भगवान Sri Krishna का यह खूबसूरत सा मंदिर केरल के कोट्टायम में स्थित है। यह जगह करोड़ों भक्तों की आस्था का केंद्र है और न सिर्फ स्थानीय लोग बल्कि देश और दुनिया भर की अलग-अलग जगह से आने वाले पर्यटक यहां दर्शन के लिए पहुंचते हैं।

इस मंदिर से एक दिलचस्प पौराणिक कथा भी जुड़ी हुई है

स्थानीय लोगों के मुताबिक ये मंदिर 1500 साल पुराना है और तभी से इसे चमत्कारी और रहस्यमयी माना जाता है। कुछ लोग तो यह भी कहते हैं कि इस मंदिर का निर्माण इंसान ने नहीं बल्कि भगवान ने खुद किया था। इस मंदिर से एक दिलचस्प पौराणिक कथा भी जुड़ी हुई है। जिसके मुताबिक वनवास के दौरान यहां पर पांडव Sri Krishna की मूर्ति की पूजन अर्चन किया करते थे। वो सुबह शाम यहां पर दीप प्रज्वलित कर Sri Krishna को भोग अर्पित करते थे। जब वो यहां से गए तो मूर्ति को उन्होंने यही छोड़ दिया और उसके बाद स्थानीय लोगों ने इसकी पूजन अर्चन शुरू की और देखते ही देखते ये मंदिर प्रसिद्ध हो गया।

Related articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

follow on google news

spot_img

Share article

spot_img

Latest articles

Newsletter

Subscribe to stay updated.