हिमाचल प्रदेश के CM सुखविंदर सुक्खू ने दिया इस्तीफा, शाम तक नए सीएम का ऐलान संभव; खड़गे-प्रियंका ने संभाली कमान

चौक टीम, जयपुर। हिमाचल प्रदेश में सियासी हलचल के बीच सुक्खू सरकार में कैबिनेट मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस शाम तक नए नेता का चयन कर सकती है। पार्टी ने विधायकों से बातचीत के लिए ऑब्जर्वर्स भेजे हैं। बता दें सुखविंदर ने नाराज मंत्री विक्रमादित्य के पद से इस्तीफे के करीब एक घंटे बाद यह कदम उठाया। हालांकि, अब तक सीएम सुक्खू ने राज्यपास को इस्तीफा नहीं सौंपा है। सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस हाईकमान ने उन्हें इस्तीफा देने को लेकर तैयार रहने के लिए कहा गया है।

दरअसल, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू आज शाम तक पद से इस्तीफा दे सकते हैं। उन्होंने कांग्रेस आलाकमान की तरफ से भेजे गए ऑब्जर्वर के सामने मुख्यमंत्री का पद छोड़ने की पेशकश की है। हालांकि उन्होंने अभी राज्यपाल को कोई इस्तीफा नहीं दिया है। सूत्रों ने बताया कि आज शाम तक सुक्खू औपचारिक तौर पर इस्तीफा राज्यपाल को सौंप सकते हैं।

खड़गे-प्रियंका ने संभाली कमान

बताया जा रहा है कि हिमाचल प्रदेश में आए सियासी संकट की कमान कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और प्रियंका गांधी ने संभाल ली है। क्योंकि मल्लिकार्जुन खरगे ने कल भी राहुल गाधी से फोन पर बात की थी, और आज भी सारे घटक्रम पर लगातार एक्टिव हैं। वहीं खरगे, प्रियंका गांधी और केसी वेणुगोपाल लगातार आपस में चर्चा कर रहे हैं, ये तीनों नेता डीके शिवकुमार और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के संपर्क में हैं। सूत्रों के मुताबिक नाराज विधायकों ने प्रियंका गांधी से बात की। जिसके बाद पूरे मामले के बारे में प्रियंका गांधी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से भी बातचीत की है।

बीजेपी के 15 विधायक सस्पेंड

बता दें इससे पहले हिमाचल विधानसभा में हंगामा हुआ है, जिसके बाद स्पीकर ने बीजेपी के 15 विधायकों को सस्पेंड कर दिया है। बीजेपी सदस्यों ने सदन में कागज बिखेर दिए। सदन की कार्यवाही को 12 बजे तक स्थगित कर दिया गया है। बीजेपी के जिन विधायकों को सस्पेंड किया गया है वो जयराम ठाकुर, विपिन सिंह परमार, विनोद कुमार, जनक राज, बलबीर वर्मा, सुरेंद्र शौरी, इंदर सिंह गांधी, हंसराज और लोकेंद्र कुमार हैं।

भाजपा ने गवर्नर से फिर टाइम मांगा

स्पीकर के निष्कासित किए जाने के बावजूद भाजपा के विधायक विधानसभा में ही बैठे हैं। उन्हें निकालने के लिए मार्शल बुलाए जा रहे हैं। इसी बीच भाजपा ने फिर गवर्नर से मिलने का समय मांगा है। इससे पहले वे सुबह गवर्नर से मिले थे। जिसमें सरकार का फ्लोर टेस्ट करवाने की मांग की थी।

Related articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

follow on google news

spot_img

Share article

spot_img

Latest articles

Newsletter

Subscribe to stay updated.